मज़बूत नीति ही आर्थिक उपक्रमों की उन्नति एवं विकास का आधार होती है। इस केंद्र में प्राथमिक तौर पर औद्योगिक नीति के विभिन्न रूपों का अध्ययन और आर्थिक विकास संबंधी नीतियों पर निर्भर अन्य नीतिगत मुद्दों को अपनाने के बारे में विचार किया जाता है। यह केंद्र खास तौर पर सुनियोजित मार्गदर्शन के ज़रिये वैश्विक अर्थव्यवस्था के साथ तादात्म्य स्थापित करने के लिए अन्य देशों तथा विदेशी एजेंसियों के साथ लेन-देन को बढ़ावा देता है। इसके अलावा भारतीय उद्योग क्षेत्र की प्रतिस्पर्धा क्षमता में बढोतरी सुनिश्चित करने के लिए परिवर्तनों पर निगरानी रखने एवं अन्य आवश्यक परिवर्तनों के लिए सुझाव प्रदान करता है।