Minister

यह निम्समे के आरंभिक स्कूलों / बौद्धिक विभागों में से एक है, जो वैश्विक बाज़ार के माहौल में अतिरिक्‍त ज़िम्मेदारियों के साथ अपनी भूमिका निभा रहा है। सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यमों (एमएसएमई) का विकास आम तौर पर व्यापार विकास सेवाओं में बढोतरी के अलावा संवहनक्षम वैधानिक, नियामक और नीतिपूर्ण माहौल की स्थापना के ज़रिये अर्थव्यवस्था की सुधार प्रक्रिया में सहायता एवं रोज़गार उत्पादन पर निर्भर करता है। इस कड़ी में उद्यम विकास स्कूल (एसईडी) भविष्य की चुनौतियों की ओर आशावादी एवं संरचनात्मक नज़रिये से देखते हुए सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम क्षेत्र में ऊर्जायुक्त तथा सामूहिक परिवर्तन लाने के लिए उत्प्रेरक के रूप में कार्य कर रहा है। एसईडी की गतिविधियों में कार्यक्रम मूल्यांकन अध्ययन, अनुसंधान योजनाएँ, साध्यता अध्ययन, संभावनाओं का सर्वेक्षण, ग्रामीण उद्यमों को प्रोत्साहन, पिछडे क्षेत्रों का विकास, मूलभूत ढाँचा विकास कार्यक्रम एवं केन्द्र तथा राज्य सरकारों के लिए परियोजनाओं का कार्यान्वयन शामिल है, जिससे वैश्विक एवं राष्ट्रीय परिदृष्य में नवप्रवर्तनों के अलावा उद्यम विकास को गति दी जा सकती है। अंतर्राष्ट्रीय मोर्चे पर वैश्विक आर्थिक परिदृष्य को ध्यान में रखकर सूक्ष्म तथा लघु उद्यमों को अधिकाधिक प्रतिस्पर्धी बनाने पर ज़ोर देते हुए एसईड़ी उद्यम नीति के विभिन्न पहलुओं के कार्यान्वयन एवं मूल्यांकन, विकास तथा निर्माण में सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यमों के कार्यकारियों को मार्गदर्शन/ प्रशिक्षण देते हुए सूक्ष्म तथा लघु उद्योगों के विकास एवं लघु उद्योग के सिद्धान्तों तथा व्यवहार के बीच सेतु का काम कर रहा है। स्कूल के अनुभवी एवं कुशल संकाय सदस्य विभिन्न स्तर के अधिकारियों को प्रशिक्षण देने के अलावा औद्योगिक संभावनाओं के निदान के रूप में आर्थिक सर्वेक्षणों, राष्ट्रीय तथा अंतर्राष्ट्रीय एजेंसियों के साथ नेटवर्क तथा सरकारी कार्यक्रमों/योजनाओं से संबंधित अनुसंधान अध्ययनों एवं परिणाम अध्ययनों पर ध्यान देते हैं। उद्यम विकास स्कूल परिपूर्ण विकास का लक्ष्य साध्य करने के लिए समूह विकास, रोजगार उत्पादन से सम्बन्धित और कुशल केन्द्र के रूप में अपनी पहचान बना चुके विभागों के साथ मिलकर कार्य कर रहा है ।