उत्पत्ति

मूलतः निम्समे केन्द्रीय औद्योगिक विस्तार प्रशिक्षण संस्थान के रूप में (एसआईईटी) नई दिल्ली में 1960 में, उद्योग और वाणिज्य मंत्रालय, भारत सरकार के विभाग के रूप में स्थापित किया गया। निश्च्य किया गया था कि मंद और प्रतिबन्धक प्रशासनिक नियंत्रण एवं विधान से मुक्त रखा जाय। ताकि, लघु उद्यम के संवर्धन में संस्थान निर्णायक भूमिका निभा सके। अतः संस्थान को 1962 में हैदराबाद स्थानान्तरित किया गया और लघु उद्योग विस्तार प्रशिक्षण संस्थान (एसआईईटी) के रूप में पुनः नामकरण किया गया। एसआईईटी के नाम से जाना गया। इस संस्थान को दो दशकों के बाद भारत सरकार द्वारा नियुक्त शासकीय परिषद्‌ द्वारा प्रबन्ध किया गया। एसआईईटी के संस्थापक एवं अध्यक्ष डॉ. पी.सी अलेग्सेन्डर थे, जो तत्कालीन विकास आयुक्तो (लघु-उद्योग) थे।

नैपुण्य केन्द्र

व्यापारार्थ वातावरण की दृष्टिग से मुख्यतः लघु उद्यम के संवर्धन में सहायता के शासन पत्र के साथ भारत सरकार द्वारा एसआईईटी को राष्ट्री य संस्थान का दर्जा दिया गया। 1984 में युनीडो ने एसआईईटी को अनुवर्ती के रूप में नैपुण्य केन्द्र के अन्तर्गत मान्य कार्यान्वयन के लिए संस्थान के रूप में पहचाना। इसी वर्ष राष्ट्री य स्तर मंजूर किया गया और सीएट संस्थान नीसीएट बन गया। तब से, उद्यमिता संवर्धन के कार्यक्रम में अपनी विशिष्टनता में उत्कण्ठा से संस्थान ने लम्बी यात्रा की। संस्थान ने राष्ट्री य एवं अन्तर्राष्ट्रींय स्तर पर मान्यता प्राप्त की। वैश्वीमकरण के दबाव से जूझने हेतु भारत सरकार ने संसद में एमएसएमई प्रस्ताव का अधिनियम बनाया, जो 2 अक्तूाबर 2006 से प्रभावित हुआ। तदनुसार, अपने उद्देश्यों के विस्तृत केन्द्रों पर ध्यान देने, संस्थान का पुनः नामकरण 11 अप्रैल 2007 को निम्समे के रूप में हुआ और अपने रुप और संस्थान को पुनः रूपान्वित किया। यह सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय (पहले जो एसएसआई मंत्रालय था) भारत सरकार का एक संगठन है। निम्समे (पूर्व नाम एसआईईटी) का पंजीकरण आन्ध्र प्रदेश के हैदराबाद में 1350 फसली के सार्वजनिक संघ पंजीकरण धारा के अन्तर्गत 1 जुलाई 1962 से प्रभाव में आया ।

संघ का प्रशासन

संघ के नियमों एवं विनियमों के नियम 22 (क और ख) के अनुसार भारत सरकार द्वारा नियत शासकीय परिषद्‌ द्वारा संघ के कार्यों का प्रबन्धन, प्रशासन, निर्देशन एवं नियंत्रण किया गया। संघ, भारत सरकार द्वारा नियत नियमों एवं विनियमों के नियम 3 के अन्तर्गत प्रदान किया गया । भारत सरकार के सचिव एमएसएमई मंत्रालय, संघ के अध्यक्ष एवं शासकीय परिषद्‌ के सभापति हैं। वर्तमान में श्री दिनेश राय, आई.ए.एस सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्रालय, भारत सरकार के सचिव हैं और श्री पी. उदय शंकर संस्थान के प्रभारी महा-निदेशक हैं।